Romantic Shayari

सुना है तुम ले लेती हो हर बात

Post Copied

सुना है तुम ले लेती हो हर बात का सपना,
आजमाएंगे कभी तुम्हारे होंठों को चूम कर।
हैप्पी किस डे

Ab Web Experts
Romantic Shayari

चलो संग मिलकर प्यार की गलियां

Post Copied

चलो संग मिलकर प्यार की गलियां धूम लेते है,
प्यार का इजहार तो कर लिया,
अब एक दुसरे को चूम लेते हैं।
हैप्पी किस डे

Romantic Shayari

मेरे दिल की बेताबी हद से

Post Copied

मेरे दिल की बेताबी हद से बढ जाती है….
जब वो भर कर मुझे बाहों में
अपनी सांस की तेजी सुनाती है
हैप्पी किस डे

Romantic Shayari

सिर्फ एक बार चूमा था मेहबूब के

Post Copied

सिर्फ एक बार चूमा था मेहबूब के होटो को …
लोगो ने बस्ती से निकाल दिया शराब
पीने के इल्ज़ाम मे….
हैप्पी किस डे

Romantic Shayari

सिर्फ एक बार चूमा था मेहबूब के

Post Copied

सिर्फ एक बार चूमा था मेहबूब के होटो को …
लोगो ने बस्ती से निकाल दिया शराब
पीने के इल्ज़ाम मे….
हैप्पी किस डे

Ab Web Experts
Romantic Shayari

आज चूमकर मेरे होंठों को वो एक

Post Copied

आज चूमकर मेरे होंठों को वो एक अदा से बोली,
सच बता दिल में तेरे और भी अरमान हैं की बस?
हैप्पी किस डे

Romantic Shayari

चुम लूँ तेरे होठों को दिल की ये

Post Copied

चुम लूँ तेरे होठों को दिल की ये ख्वाहिश है,
बात ये मेरी नहीं दिल की फरमाइश हैं।
हैप्पी किस डे

Romantic Shayari

उसके होंठो को चूमा तो ऐहसास

Post Copied

उसके होंठो को चूमा तो ऐहसास हुआ,
सिर्फ पानी ही जरूरी नहीं प्यास बुझाने के लिए
हैप्पी किस डे

Romantic Shayari

होंठो से तेरे होठ को गिला कर

Post Copied

होंठो से तेरे होठ को गिला कर दूँ,
तेरे होंठो को मैं और भी रसीला कर दूँ.
हैप्पी किस डे|

Romantic Shayari

मैने कहा तीखी मिरची हो तूम

Post Copied

मैने कहा तीखी मिरची हो तूम
वो होंठ चूम कर बोली और अब?
Wish You Happy Kiss Day

Romantic Shayari

छीन कर हाथों से सिगरेट वो

Post Copied

छीन कर हाथों से सिगरेट वो
कुछ इस अंदाज़ से बोली,
कमी क्या है
इन होठों में जो तुम सिगरेट पीते हो!!
Happy Kiss Day

Heart Touching Shayari

छीन कर हाथों से सिगरेट वो

Post Copied

छीन कर हाथों से सिगरेट वो कुछ इस अंदाज़ से बोली,
कमी क्या है इन होठों में जो तुम सिगरेट पीते हो!!

Love Status

उन के होंठो को देखा तब

Post Copied

उन के होंठो को देखा तब एक बात उठी ज़हन में,
वो लफ्ज़ कितने नशीले होंगे जो इनसे हो कर गुज़रते है