Romantic Shayari

ना समेट सकोगे क़यामत तक जिसे तुम

Post Copied

ना समेट सकोगे क़यामत तक जिसे तुम,
कसम तुम्हारी तुम्हें इतनी मोहब्बत करते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *