Bewafa Shayari

छोड़ दिया किस्मत की लकीरों पर यकीन

Post Copied

छोड़ दिया किस्मत की लकीरों पर यकीन करना
जब लोग बदल सकते है तो किस्मत क्या चीज़ है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *