google-ad google-ad
Dard Shayari

“जहाँ आस होती हैं, वहाँ विश्वास होता हैं

“जहाँ आस होती हैं, वहाँ विश्वास होता हैं, जहाँ विश्वास होता हैं, वहीं तो विश्वासघात होता हैं”।।

Read More
Dard Shayari

हँसकर कबूल क्या कर लीं सजाएँ

हँसकर कबूल क्या कर लीं सजाएँ मैंने ज़माने ने दस्तूर ही बना लिया हर इलज़ाम मुझ पर लगाने का. Hans Kar Kabul Kya Kar Li Sajaaye Maine, Zamane Ne Dastur Hi Bana Liya Har Ilzaam Mujh Par Lagane Ka.

Read More
google-ad
google-ad