2 Line Shayari

बेगुनाह कोई नहीं, राज़ सबके

Post Copied

बेगुनाह कोई नहीं, राज़ सबके होते हैं,
किसी के छुप जाते हैं, किसी के छप जाते हैं |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *